रामनगर ट्रेनिंग सेंटर की सुरक्षा व्यवस्था ध्वस्त : नेक्सलाइट कभी भी लूट सकते हैं इंसास रायफल,हजारों कारतूस!

पीएम के संसदीय क्षेत्र ‘रामनगर ट्रेनिंग सेंटर’ की सुरक्षा में सेंध लगाकर नेक्सलाइट लूट सकते हैं इंसास रायफल,थ्री नाट थ्री रायफल!

नींद की खुमारी में कहीं लुट ना जाये इंसास रायफल,थ्री नाट थ्री रायफल

इंसास रायफल,थ्रीनाटथ्री रायफल की सुरक्षा गयी भाड़ में हमें तो लेना है मजा नींद का…

रामनगर ट्रेनिंग सेंटर पर आर्मरी में रखा है इंसास रायफल,50 थ्री नाट थ्री रायफल और हजारों कारतूस

सुरक्षा में लगे जवान लेते हैं खर्राटा,निगरानी रखने वाला गारद कमांडर प्रमोद कुमार घर के डबलबेड के गद्दे पर भर रहा खर्राटा

क्या मंडलीय कमांडेंट जी.सी.कटियार ने रात्री पॉली में कभी किया औचक निरीक्षण ?

संजय पुरबिया
लखनऊ। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी के रामनगर ट्रेनिंग सेंटर में रखे इंसास रायफल,50 थ्री नाट थ्री रायफल सहित हजारों कारतूस कभी भी नेक्सलाइट लूट सकते हैं। रामनगर से सटे है चंदौली,जो नेक्सलाइटों का बेल्ट माना जाता है। रामनगर ट्रेनिंग सेंटर में होमगार्डों को ट्रेनिंग दिया जाता है। यहां पर आर्मरी में बड़ी संख्या में इंसास रायफल, लगभग 50 थ्री नाट थ्री रायफल और हजारों कारतूस रखे हैं। यहां पर आम्र्स की सुरक्षा की जिम्मेदारी बेहद जिम्मेदार होमगार्डों को सौंपी जाती है। जवानों पर पैनी नजर रखने के लिये  (हवलदार प्रशिक्षक) जिसे गारद कमांडर कहा जाता है, प्रमोद कुमार तैनात हैं। आर्मरी पर 12 घंटे की ड्यूटी के लिये दो होमगार्ड तैनात किये जाते हैं और गारद कमांडर पर भी शस्त्रों की सुरक्षा सहित जवानों की मुश्तैदी पर नजर रखनी होती है लेकिन रामनगर में सुरक्षा नियमावली के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। द संडे व्यूज़ व इंडिया एक्सप्रेस न्यूज़ के पास कुछ ऐसे फोटोग्राफ आये हैं जिसमें आपको साफ-साफ दिखेगा कि रामनगर ट्रेनिंग सेंटर पर आर्मरी की सुरक्षा के लिये रात्रि पॉली में तैनात दो होमगार्ड खर्राटा भर रहे हैं। जवानों का रायफल जमीन पर पड़ा है और इन पर नजर रखने वाले गारद कमांडर ड्यूटी स्थल पर होने के बजाये अपने घर पर सो रहे हैं। शर्मनाक।

सुरक्षा व्यवस्था के साथ बेहद गंदा मजाक इन जवानों के साथ-साथ गारद कमांडर तो कर ही रहे हैं लेकिन उससे भी भद्दा मजाक यह है कि यहां के मुखिया मंडलीय कमांडेंट जी.सी.कटियार क्या कर रहे हैं ? दस्तावेज चीख-चीख कर बता रहे हैं कि किस तरह से सुरक्षा व्यवस्था के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है और मैं ये भी जानता हूं कि इस सबूत को देखने के बाद भी शासन और मुख्यालय पर बैठकर जाति-पांति पर खेला करने वाले अधिकारी यही कहेंगे कि अरे,ये कोई बड़ी बात नहीं है, ये तो दो कौड़ी की… है…। खैर,इस पर जब होमगार्ड विभाग के इलाहाबाद परिक्षेत्र के डीआईजी संतोष सुचारी से बात की गयी तो उनका जवाब था कि मामला बेहद गंभीर है। मंडलीय कमांडेंट,रामनगर इस पर गारद कमांडर और होमगार्डों पर कार्रवाई करने के लिये अधिकृत हैं। मैं भी मामले को गंभीरता से लेता हूं।


द संडे व्यूज़ व इंडिया एक्सप्रेस न्यूज़ के पास रामनगर ट्रेनिंग सेंटर के अंदर बने आर्मरी रुम के पास खिंचे गये 4 फोटोग्राफ आये हैं। बताया जाता है कि 10 से लेकर 15 जुलाई के बीच आर्मरी रुम में रखे इंसास रायफल, लगभग 50 थ्री नाट थ्री रायफल और हजारों कारतूस सहित रामनगर ट्रेनिंग सेंटर की सुरक्षा में तैनात होमगार्ड मनोज सिंह और अखिलेश सिंह प्रहरी की भूमिका अदा करने के बजाये खर्राटा भर रहे थे। बताते हैं 12-12 घंटे की शिफ्ट में दो होमगार्ड रायफल के साथ ड्यूटी करते हैं। इनकी पूरी जिम्मेदारी होती है कि वे दिन हो या रात्रि पाली की ड्यूटी, परिसर में गश्त करने के साथ-साथ आर्मरी रूम में रखे शस्त्रों की सुरक्षा करेंगे। खास बात यह है कि इस फोटो को देखकर कहीं से नहीं लगता कि दो जवान अपने कर्तव्यों के प्रति जागरूक हैं।  जवान अपनी ड्यूटी को सही तरीके से अंजाम दे रहे हैं कि नहीं,इसके लिये गारद कमांडर तैनात रहते हैं। दुर्भाग्य की बात यह कि रात्रि पॉली में तैनात जवानों पर नजर रखने वाला गारद कमांडर प्रमोद कुमार अपने घर पर सो रहा था। बताया जात है कि कभी भी रात्रि पाली में अधिकारी औचक निरीक्षण कर लें तो जवान सोते मिलेंगे और गारद कमांडर अपने घर पर सोता मिलेगा।


खैर,इसमें जवानों ने अपने डयूटी के साथ खिलवाड़ तो किया है लेकिन उससे भी बड़ा मजाक गारद कमांडर और वरिष्ठ अधिकारियों ने किया है। क्या होमगार्ड विभाग में अधिकारियों के साथ-साथ अब गारद कमांडर और जवान भी ये मानकर चल रहे हैं कि नियम तोड़ो,कोई कुछ नहीं करेगा? बड़ा सवाल यह है कि रामनगर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के संसदीय क्षेत्र में आता है और चंद किलो मीटर की दूरी पर चंदौली है। चंदौली नक्सल बेल्ट माना जाता है। सवाल यह है कि क्या रामनगर ट्रेनिंग सेंटर पर तैनात मंडलीय कमांडेंट जी.सी.कटियार ने कभी रात्रि पॉली में औचक निरीक्षण कर यह देखने की जहमत उठायी कि सुरक्षा सही ढंग से हो रहा है या फिर खिलवाड़…?

वाराणसी जिला कमांडेंट कार्यालय में चर्चा जोरों पर है कि रामनगर ट्रेनिंग सेंटर पर सब भगवान भरोसे है। अधिकारी की लापरवाही से माहौल खराब है और कभी भी कोई बड़ा हादसा हो सकता है। बहरहाल, फोटोग्राफ में सच्चाई बयां हो रहा है कि होमगार्ड विभाग कितना सजग है। डीआईजी संतोष सुचारी ने तो बयान दे दिया है अब देखना है राजधानी के एसी में बैठकर तरावट लेने वाले अधिकारी क्या करते हैं?

Post Author: thesundayviews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *