कलंक: यूपी में किसानों को लूट रहे हैं खाद्यान्न माफिया,राईस मिलर्स और जिलों के अधिकारी…

किसान आत्हत्या करे या धरना-प्रदर्शन नहीं होगा कार्रवाई,डीएम कार्यालय के अफसरों को भी जाता है हिस्सा

खुलासा : मंत्री,मुख्यालय के अफसरों की शह पर कैसे किसानों को लूट रहे हैं अधिकारी

ब्यूरो

लखनऊ। सहकारिता विभाग यानि लुटेरों का विभाग कहा जाये तो गलत नहीं होगा। शासन और मुख्यालय में बैठे अफसरों की शह पर जिलों में बैठे खाद्यान्न माफिया और राईस मिलर्स किसी और को नहीं बल्कि अन्नदाताओं की हाड़तोड़ की कमाई को लूट रहे हैं। प्रदेश भर में लुटेरों के रुप में खाद्यान्न माफियाओं की भरमार है। ये लोग जिले में बैठे एआर और जिलों में बैठे अधिकारियों के इशारे पर पूरा खेल खेलते हैं। सभी का हिस्सा बंधा है इसीलिये किसान धरना-प्रदर्शन करें या आत्महत्या,इन खाद्यान्न माफियाओं और राईस मिलर्स पर कोई असर नहीं पड़ता।

द संडे व्यूज़ खुलासा करने जा रहा है कि इस वित्तीय वर्ष में भी किसानों के शानदार फसल को सही रेट नहीं दिया जा रहा है। किसानों का दर्द ये है कि उनके धान की सही कीमत अफसर नहीं दे रहे हैं। ये बात सरकार से लेकर विभागीय मंत्री मुकुट बिहारी वर्मा को बताया जा चुका है लेकिन जिलों में बैठे अफसरों की सेहत पर कोई असर नहीं पड़ता। जिलों के किसानों ने यह भी बताया कि हमलोगों को लूटने का काम जिले में बैठे अधिकारियों के  माध्यम से मुख्यालय और मंत्री करा रहे हैं। इस पर रोक लगनी चाहिये। किसानों के दर्द के साथ-साथ हम ये बतायेंगे कि कैसे एक रैकेट काम कर रहा है और इसमें शामिल डीएम कार्यालय से लेकर तहसील स्तर के अधिकारी भी शामिल हैं। वेट एण्ड वाच…

Post Author: thesundayviews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *