होमगार्ड संकेत कुमारी का सनसनीखेज आरोप: कमांडेंट मनीष दुबे कहते हैं ‘मुझे अकेले में मिलो’…

आखिर महिला होमगार्ड से अकेले में क्यों मिलना चाहते हैं अमरोहा कमांडेंट मनीष दुबे ?

डीजी साहेब,व्हाटसअप चैटिंग पर अफसर को किया निलंबित,’अकेले में मिलो’ बोलने वाले अफसर पर मेहरबानी क्यों ?

महिला होमगार्ड जब मिलने नहीं गयी तो लगा दिया ड्यूटी परेड पर रोक

डीजी विजय कुमार से मिली,डीजी ने कमांडेंट को दिया डयूटी पर लगाने का आदेश

मनीष दूबे ने नहीं माना डीजी का आदेश,पांच दिन बाद भी संकेत को नहीं मिली ड्यूटी

मनीष दुबे का बयान: मैंने किसी महिला को ऐसा नहीं कहा है

शेखर यादव

इटावा। होमगार्ड विभाग की स्थिति इस समय इतनी बदत्तर हो गयी है कि एक कमांडेंट डीजी के आदेश की धज्जियां उड़ा रहा है। इसमें कमांडेंट की भी गल्ती नहीं है क्योंकि जब शीर्ष कुर्सी पर बैठने वाला अधिकारी सही ढंग से न्याय नहीं देगा तो स्वाभाविक है कि नीचले स्तर के अधिकारी अनुशासनहीनता बरतेंगे। अब अमरोहा के उस कमांडेंट की बात करते हैं,जिस पर पहले भी वहां की दो महिला होमगार्डों ने जबरियन घर पर दिन-रात में खाना बनवाने का गंभीर आरोप लगा चुकी हैं। जी हां,आप सही समझे। बात अमरोहा कमांडेंट मनीष दूबे की कर रहे हैं जिन पर एक बार फिर एक महिला होमगार्ड संकेत कुमारी ने गंदा आरोप लगाया है। संकेत कुमारी का साफ कहना है कि मनीष दुबे उसे अकेले में बुलाते हैं…। इसका क्या मतलब लगाया जाये। मामला गंभीर है। दूबे जी ने संकेत कुमारी को ड्यूटी परेड से हटा दिया है,जिसे लेकर वह कई बार कमांडेंट से वार्ता की लेकिन कोई फायदा नहीं मिला। 26 अक्टूबर को संकेत कुमारी मुख्यमंत्री कार्यालय पहुंची लेकिन मुलाकात ना हो सकी। उसने मुख्यमंत्री कार्यालय पर तैनात अधिकारियों को शिकायती पत्र दिया उसके बाद डीजी,होमगार्ड को शिकायती पत्र दिया। डीजी ने आश्वासन दिया कि अमरोहा जाओ ड्यूटी मिल जायेगी। पांच दिन गुजर गये लेकिन अभी तक दूबे जी ने उसे ड्यूटी पर नहीं लिया है। इस बाबत मनीष दूबे से बात की गयी तो उन्होंने व्हाटसअप पर जवाब दिया कि मैंने किसी महिला को ऐसा नहीं कहा है। जिसे काम होता है ऑफिस में बुलाता हूं। खास बात यह है कि आखिर एक अदना सी महिला होमगार्ड पीपीएस अफसर पर इतना गंभीर आरोप क्यों लगा रही है, आखिर इससे उसे क्या फायदा होने वाला है ?

अमरोहा के कमांडेंट मनीष दुबे महिला उत्पीडऩ को लेकर पहले से भी सुर्खियों में रहे हैं। महिलाओं से घर पर जबरियन खाना बनवाने जैसे आरोप में पहले भी घिरे मनीष दुबे ने अमरोहा की एक मृतक आश्रित की बेटी जो होमगार्ड में भर्ती हुयी ,उसकी ड्यूटी और परेड पर रोक लगा दी है। महिला होमगार्ड संकेत का यह आरोप है कि मनीष दुबे कमांडेंट से जब उसने ड्यूटी परेड से रोक हटाने के लिये अनुरोध किया तो उन्होंने कहा कि मुझसे अकेले में मिलो…। संकेत कुमारी का यह भी कहना है कि मनीष दुबे ने यहां पर नया नियम बना रखा है। कोई भी होमगार्ड जब कमांडेंट से मिलने जायेगा तो वह अकेला उनके कार्यालय में आये और उस जवान की पूरी तलाशी ली जाती है कि कहीं उसके पास मोबाइल तो नहीं है। संकेत का कहना है कि इसीलिये वह कमांडेंट से अकेले में मिलने नहीं गयी। बताया कि बार- बार अनुरोध करने के बाद भी उसकी ड्यूटी और परेड से जब रोक नहीं हटी तो वह मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलने लखनऊ गयी। मुख्यमंत्री से जब मुलाकात नहीं हो पायी तो उसने शिकायती पत्र उनके अधिकारियों को दे दी,उसके बाद वह डीजी, होमगार्ड विजय कुमार से मिली। उन्होंने आश्वासन दिया कि आप अमरोहा पहुंचो, आपकी ड्यूटी और परेड से रोक हट जायेगी। चार दिन बीत जाने के बाद भी अभी तक महिला होमगार्ड संकेत कुमारी को न्याय नहीं मिला।

डीजी साहेब,यदि किसी महिला से अकेले में मिलने के लिये कहा जाये तो आप सब समझ सकते हैं कि इसका क्या मतलब होगा? मेरे घर में भी महिलाये हैं,आपके घर में भी हैं और सभी अफसरों के घर में भी…। यदि कोई मेरे घर की महिलाओं को अकेले में मिलने के लिये कहे तो मेरा खून खौल उठेगा…। आप सब तय करिये की आपकी क्या सोच है ? द संडे व्यूज़ के पास वो वीडियो भी है जिसमें संकेत कुमारी ने अमरोहा कमांडेंट मनीष दूबे पर बेहद संगीन आरोप लगाया है।

गौर करने वाली बात तो यह है कि जब डीजी विजय कुमार ने आदेश दिया कि संकेत कुमारी को ज्वाइन कराये तो कमांडेंट मनीष दूबे क्यों नहीं उसे ड्यूटी पर ले रहे हैं ? आपको बता दें कि इस विभाग में एक महिला कमांडेंट द्वारा षडय़ंत्र के तहत मुख्यालय पर तैनात एसएसओ ने व्हाटसअप पर चैंटिंग में उनके और उनके पति का अपमान करने की बात करने पर एसएसओ को निलंबित कर दिया गया।  जब एक पीसीएस अधिकारी को चैटिंग कांड पर डीजी विजय कुमार निलंबित कर सकते हैं तो फिर अमरोहा कमांडेंट मनीष दूबे पर तो कैमरा के सामने महिला होमगार्ड संकेत कुमारी अकेले में मिलो…,पहले से बहुत अच्छी लग रही हो…। इतना घटिया आरोप लगाये जाने के बाद भी डीजी विजय कुमार की इंसानियत देखें,कोई एक्शन नहीं ले रहे हैं। वाह…इसे कहते हैं अंधेर नगरी चौपट राजा…।

इसे कहते हैं अंधेर नगरी चौपट राजा…

क्रमश:

नोट: जवानों आप सभी यदि कोई अधिकारी बेवजह परेशान करे तो अपनी समस्याओं को इस नंबर पर संपर्क करें
 : संजय पुरबिया,स्टेट हेड,लखनऊ 8317011531
: शेखर यादव,ब्यूरो चीफ-इटावा 8360271419

Post Author: thesundayviews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *