एक्शन पर एक्शन: महोबा में तीन इंस्पेक्टर और एक सिपाही सस्पेंड, महकमे में मचा हड़कंप

महोबा

यूपी के महोबा जिले में शासन की ओर से भ्रष्टाचार के आरोप में पुलिस अधीक्षक मणिलाल पाटीदार के निलंबन के बाद जिले के नये पुलिस अधीक्षक अरुण कुमार श्रीवास्तव ने कार्यभार ग्रहण करने के बाद तीन पुलिस इंस्पेक्टर समेत एक सिपाही को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया।इनमें से एक इंस्पेक्टर पर क्रशर व्यापारी इंद्र कांत त्रिपाठी पर रुपये देने के लिए दबाव डालने का आरोप है। अन्य दो पर एक प्राइवेट कंपनी की गाड़ियों के चालान काटने, एफआईआर करने और गाड़ी मालिक का उत्पीड़न करने का आरोप है।


वहीं इस कार्रवाई से पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया है। पुलिस अधीक्षक की प्रारंभिक जांच में यह प्रकाश में आया है कि कस्बा कबरई के जवाहर नगर निवासी क्रशर व्यापारी इंद्र कांत त्रिपाठी को इंस्पेक्टर कबरई देवेंद्र शुक्ला ने बुलाकर तत्कालीन पुलिस अधीक्षक को रुपये देने के लिए दबाव बनाया था। रुपये देने पर असहमति जताने पर क्रशर व्यापारी को धमकी देने के आरोप इंस्पेक्टर पर हैं। सिपाही राज कुमार कश्यप पर कबरई मंडी से सेटिंग करके तत्कालीन एसपी को लाभ पहुंचाने के आरोप लगे हैं। वहीं बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे में गिट्टी ढुलाई के लिए लखनऊ की एक प्राइवेट कंपनी की गाड़ियां लगी थी।

जो थाना खन्ना और खरेला से होकर गुजरती हैं। थाना खन्ना के इंस्पेक्टर राकेश कुमार सरोज व थाना खरेला के तत्कालीन इंस्पेक्टर राजू सिंह ने कंपनी के प्रोजेक्टर मैनेजर अमित कुमार तिवारी की गाड़ियों का चालान व एफआईआर दर्ज की थी।बाद में अमित कुमार को बुलाकर दोनों इंस्पेक्टरों ने तत्कालीन पुलिस अधीक्षक को हर महीने रुपये देने के लिए कहा। न देने पर गाड़ियों का चालान करने की धमकी दी थी। इन दोनों इंस्पेक्टरों को भी निलंबित कर दिया। तीनों को पुलिस लाइन से संबद्घ किया गया है।

 

Post Author: thesundayviews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *