लाइफ स्टाइल मेडिसिन को पहचान लें और रहें स्वस्थ

मानव जीनोम आइडेंटिटी कोड को जाने
लखनऊ 
कल की बात है जब रोहन आफिस  से घर आया तो उनकी धर्मपत्नी ने उनको  गोभी की पकौड़ी बनाकर चाय के साथ दिया रोहन  चाय पकौड़े खा कर आराम करने लगे  पर 2 घंटे बाद उनको पेट में दर्द होने लगा  जब उनको आराम नहीं मिला तो उन्हें  अस्पताल ले आना पड़ा बाद पता चला कि उनको  गोभी से एलर्जी  है यह घटना रोहन की ही नहीं है बल्कि हजारों लोगों की है जो कहते  कि मैं सब कुछ सही खाता हूं फिर भी ना जाने कैसे यह रोग हो गया जैसे (शुगर, bp, किडनी फेल , हार्ट  फेल) इत्यादि |
इसी क्रम को डॉक्टर वंश राज मौर्य ने  नेचर को अध्यन कर के ये समझा की  प्रत्येक व्यक्ति की संरचना एवं प्रकृति अलग-अलग है तथा उसका आहार विहार भी अलग है  जिस प्रकार से पेट्रोल  कार की गाड़ी का इंजन अलग होता है तथा डीजल गाड़ी के इंजन  अलग होता है उसी के अनुसार डीजल या पेट्रोल हम डालते हैं पर हम अपनी जीनोमिक प्रकृति के अनुसार भोजन नही करते है  क्योंकि  कि हमें जानकारी नहीं है और नहीं हमें कोई देने वाला है जो मन होता है खाते हैं पीते हैं कभी भी किसी भी समय और हम रोग ग्रस्त होकर जीवन कष्टमय में बना लेते हैं हम यह गलतियां भौतिक चीजों में नही करते है|
क्योंकि हमें यूजर मेनुअल गाइड मिला है कि किस  समान का किस प्रकार से प्रयोग करना है और किस प्रकार से नहीं अत: डॉ. वंश राज मौर्य ने यह  समझा कि मनुष्य की जीनोमिक  प्रकृति भी दो प्रकार की होती है ठंडी व गर्म  उनका भोजन भी दो भागों में विभाजित है ठंडा वह गरम जैसे तरबूज खरबूज खीरा ककड़ी अमरूद आम  गाजर मूली चुकंदर  कैंथा  बेल  सौंफ अजवाइन काजू बादाम इत्यादि नेचर ने अलग  अलग बनाएं मनुष्य अपने जीनोमिक प्रकृति के अनुसार खाये  तथा स्वस्थ रहे पर मनुष्य के पास  360 डिग्री जीनोमिक कोड   न होने के कारण  जो मन होता है वो खाता है और बीमार हो जाता है |
एक बात सोचने वाली है जो लाइफ स्टाइल बिमारी है  वो छुआ छुत  नही है  मतलब साफ है की सारी समस्याओ का जड़ हमारा भोजन है  इसका मतलब हम ने जो खाया उसी में कुछ गड़बड़ है और क्या खाया कैसे खाया | क्योंकि कोई भी  कंकढ  पत्थर  लकड़ी तो नहीं खाता है सिर्फ भोजन खाता है अगर हम भोजन को पहचान ले  शरीर को जान ले तो हम प्राण घातक बीमारियों से बच सकते हैं इसलिए एक कदम बढ़ाने की जरूरत है अपने मानव जीनोम कोड को जान लें तथा अपने लाइफस्टाइल मेडिसिन 360 डिग्रीकोड  को पहचान ले |
                                                                                                                                                                                अधिक जानकारी अगले अंक में …
           डॉ वंश राज मौर्य 
 भाग्योदय फाउंडेशन के स्वास्थ रक्षक
 मानव जीनोम प्रकृति  विषेशज्ञ  9839266798

Post Author: thesundayviews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *