कोहली की कप्तानी में भारत का वर्ल्ड कप जीतने का सपना चकनाचूर, न्यूजीलैंड ने 18 रन से हराया

लखनऊ

शीर्ष क्रम के बल्लेबाजों की नाकामी के कारण भारत को आईसीसी विश्वकप के सांसों को रोक देने वाले पहले सेमीफाइनल में बुधवार को 18 रन की हार का सामना करना पड़ा और इसके साथ ही भारतीय टीम विश्वकप से बाहर हो गई। भारत की हार के साथ ही करोड़ों भारतीयों का सपना एक झटके में टूट गया। वर्षा बाधित इस सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड ने 50 ओवर में आठ विकेट पर 239 रन का चुनौतीपूर्ण स्कोर बनाया और इसका पीछा करते हुए भारतीय टीम खराब शुरुआत से उबर नहीं पायी।

रवींद्र जडेजा ने बेशक 77 और महेंद्र सिंह धोनी ने 50 रन बनाए। लेकिन इनके अंतिम ओवरों में आउट होते ही भारत की उम्मीदें टूट गईं। भारत ने 49.3 ओवर में 221 रन बनाए। भारत लगातार दूसरे विश्वकप में सेमीफाइनल में बाहर हुआ। न्यूजीलैंड ने इस जीत के साथ लगातार दूसरे विश्वकप के फाइनल में जगह बना ली। न्यूजीलैंड ने 2015 के विश्वकप में सेमीफाइनल में दक्षिण अफ्रीका को हराया था। 

9 जुलाई को कुछ ऐसा रहा था मैच का हाल

न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियमसन ने मैच में टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला लिया। भारतीय गेंदबाजों ने न्यूजीलैंड के बल्लेबाजों पर अंकुश लगाए रखा और तेजी से रन नहीं बनाने दिए। न्यूजीलैंड की पारी के 46.1 ओवर हुए थे तभी बारिश ने दस्तक दे दी। उस समय तक न्यूजीलैंड की टीम ने 5 विकेट पर 211 रन बनाए थे। रॉस टेलर 67 और टॉम लेथम 3 रन बनाकर नाबाद थे। केन विलियमसन ने 67 रन की पारी खेली थी। एक बार जो बारिश हुई तो रुकने का नाम नहीं लिया। आखिरकार अंपायर्स को मैच रिजर्व डे पर कराने का फैसला करना पड़ा। भारत की ओर से मैच में 9 जुलाई को युजवेंद्र चहल, रविंद्र जडेजा और हार्दिक पांड्या ने अपने 10 ओवर का कोटा खत्म किया। इन तीनों ने क्रम से 63, 34 और 55 रन देकर 1-1 विकेट लिए। जसप्रीत बुमराह ने 8 ओवर की गेंदबाजी में 1 मेडन रखते हुए 25 रन देकर 1 विकेट लिया। भुवनेश्वर कुमार ने 8.1 ओवर में 1 मेडन रखते हुए 30 रन देकर 1 विकेट लिया।

Post Author: thesundayviews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *