खुद से पहले परिवार की सोचने का संदेश लेकर ईद पर आ गया ‘भारत’

निर्देशक के तौर पर अली अब्बास जफर ने अपनी पिछली फिल्मों की तरह ही एक मसाला फिल्म बनाने की कोशिश की है। एक आदर्श बेटा, एक आदर्श भाई, एक आदर्श दोस्त और एक आदर्श प्रेमी गढ़ने की अली की कोशिश काफी हद तक कामयाब है हालांकि इस कोशिश की कमजोर कड़ी ये है कि फिल्म कई बार कुछ ज्यादा ही उपदेशात्मक हो जाती है। अली ने फिल्म की कहानी गढ़ने में साथी किरदारों पर बहुत उम्दा काम किया है, खासतौर से कुमुद का किरदार कटरीना के करियर का अब तक का सबसे उम्दा किरदार बन गया है और सुनील ग्रोवर के किरदार पर भी अली ने कम मेहनत नहीं की। हालांकि, पटकथा थोड़ी और चुस्त हो सकती थी और फिल्म को बिखरने से बचाने पर अली को थोड़ी मेहनत और करनी चाहिए थी।
फिल्म की कहानी चिर परिचित अंदाज में एक आम इंसान को एक हीरो बनाने की कहानी कहती आगे बढ़ती है। लीड रोल में सलमान के लुक्स साल बदलने के साथ बदलते रहते हैं। बाकी किरदार का रंग रोगन भी उसी हिसाब से बदलता है। बतौर अभिनेता सलमान खान का की अब तक की दो सबसे बड़ी लकीरें उनकी फिल्में तेरे नाम और हम दिल दे चुके सनम रही हैं, उन दोनों किरदारों तक पहुंचने की कोशिश भारत भी भरसक करता है। पर, सुपरस्टार सलमान से एक्टिंग करा पाना किसी सर्कस में रिंगमास्टर को बिगड़ैल शेर से मिली चुनौती से कम नहीं है।  फिल्म में तालियों की हकदार एक्टिंग कटरीना कैफ और सुनील ग्रोवर ने ही की है। कुमुद जब भारत की आंखों में आंखें डालकर खुद ही शादी का प्रस्ताव रखती है तो वह पलक तक नहीं झपकाती। सीधे बोलती है, शादी की उमर हो गई मेरी। हालांकि जिस दौर की कुमद है, उस दौर की किसी महिला के लिए ये फैसला किसी बगावत से कम नहीं माना जाता। कैटरीना ने उम्र बढ़ने के साथ खुद को बतौर अदाकारा तराशने में काफी मेहनत की है और इसका असर भी दिखता है। सोनाली कुलकर्णी और जैकी श्रॉफ फिल्म को मजबूत सहारा देते हैं और जब भी परदे पर आते हैं तो सुनील ग्रोवर भी तालियां बटोर ही ले जाते हैं। दिशा पाटनी फिल्म में पूरी तरह मिस कास्ट हैं।
निर्देशन और अदाकारी में मजबूत फिल्म भारत के दो डिपार्टमेंट कमजोर हैं। एक तो मेकअप व कॉस्ट्यूम और दूसरा इसका संगीत। विशाल शेखर के साथ दिक्कत ये है कि वह किसी कहानी में संगीतकार के तौर योगदान कम ही करते हैं, वह बस निर्देशक की सोच जैसा संगीत बना देते हैं। अली अब्बास जफर ने एक पीरियड फिल्म में आज का संगीत डालने का फैसला हॉलीवुड फिल्मों की परंपरा को आगे बढ़ाते हुए ही किया है, लेकिन हिंदुस्तानी दर्शकों की संवेदनशीलता पर भारत का संगीत खरा नहीं उतरता। स्पेशल इफेक्ट्स भी कहीं कहीं जल्दबाजी में किए गए लगते हैं।  अमर उजाला के मूवी रिव्यू में फिल्म भारत को मिलते हैं तीन स्टार।

Post Author: thesundayviews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *