युवाओं, किसानों के लिए पीएम मोदी का शासन सबसे दर्दनाक: पूर्व पीएम मनमोहन सिंह

दिल्ली ब्यूरो:- पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने बीते ऐतवार को कहा की प्रधान मंत्री मोदी का पिछले शासन कैसे युवाओ, किसानो, व्यापारियों और ज्यादातर लोकतान्त्रिक संस्थानों के लिए बेहद ही दर्दनाक एवं भयानक साबित हुआ है।

उन्होंने कहा कि बीजेपी की हर दिन नए कहानियों के लिए खोज, उनकी राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए कोई भी महत्वपूर्ण दृष्टि का न होना दिखती है।
भारत एक आर्थिक मंदी के लिए नेतृत्व कर रहा है और मोदी सरकार की “आर्थिक दृष्टि की कमी” के कारण से भारत की अर्थव्यवस्था पर भी भारी प्रभाव पड़ा है।

कांग्रेस पार्टी के सीनियर अध्यक्ष का ये भी कहना है की देश की आर्थिक नीतियों में अदालतों के “बढ़ते हस्तक्षेप” का होना भी गलत है , और उनके हिसाब से कांग्रेस ने ऐसी अर्थव्यवस्था को अलग और बेहतर तरीके से संभाला होता ।
सिंह ने कहा की नोटेबंदी शायद स्वतंत्र भारत का “सबसे बड़ा घोटाला” था, जिसने देश की अर्थव्यवस्था पर बुरा असर किया है और अनौपचारिक और असंगठित क्षेत्रों के करोड़ों लोगों को बेरोजगार कर दिया है ।

उन्होंने कहा कि 2018 में व्यावसायिक विकास दर 4.45 प्रतिशत है, जो कांग्रेस के नेतृत्व वाली संप्रग सरकार (2004-2014) के दौरान 8.35 प्रतिशत थी। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार के तहत जीडीपी में मनफेक्टरिंग हिस्सेदारी 2014 और 2018 के बीच केवल 0.5 प्रतिशत बढ़ी है जबकि कृषि विकास में भी बड़ी मात्रा में कमी आयी है।

सिंह के हिसाब से जो सरकार देश में सभी के सांझे विकास में विश्वास नहीं रखती, बोहोत जरुरी है की ऐसी सरकार को बाहर का रास्ता दिखा देना चाहिए।

Post Author: thesundayviews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *