मुलायम के गढ़ में रण : यहाँ के यादव वोटर लिखते हैं समाजवादी प्रत्याशियों का मुकद्दर

सपा के गढ़ पर टिकी है यूपी की निगाहें

इटावा, एटा, मैनपुरी, फि रोजाबाद, फर्रूखाबाद और कन्नौज में है समाजवादी पार्टी का जलवा

समाजवादी आंदोलन हो या देश का चुनाव यहां के यादव वोटर दिखाते हैं अपनी ताकत

शेखर यादव

इटावा। हम बात करते हैं नेताजी यानी मुलायम सिंह यादव के प्रभाव वाले लोकसभा सीटों की। जहां के मतदाता ने हमेशा जी जान लगाकर नेता जी का साथ दिया और समाजवादी पार्टी को शिखर तक पहुंचाने में पूरा योगदान दिया है। यूं कह सकते हैं कि यहां पर यादव वोट ही सपा प्रत्याशियों का मुकद्दर बनाता है।

यहां के कई नेताओं का कहना है कि उन्होंने अपने खून- पसीने से इस पार्टी को योगदान किया है यही वजह है कि जब परिवार में झगड़ा हुआ तो यहां का वोटर कन्फ्यूज हो गया। क्योंकि, शिवपाल सिंह यादव जिन्होंने प्रगतिशील समाजवादी पार्टी बनाई है, यहां का वोटर उनके भी एहसानों तले

दबा हुआ है। यही वजह है कि जमीनी नेता एवं समाजवादी परिवार के प्रभाव वाले सभी जनपदों के दिग्गज नेता शिवपाल सिंह यादव की तरफ चले गए हैं। लोग-बाग की मानें तो शिवपाल सिंह एक सहज स्वभाव के नेता हैं। उनसे कोई भी आसानी से मिल सकता है और उनमें सत्ता का दंभ कभी नहीं दिखा। वे सभी का काम करते हैं इसलिए जनता का भी झुकाव उनकी तरफ देखा जा रहा है। वे लोगों के सुख- दुख में भी हमेशा पहुंच जाते हैं । ऐसी स्थिति में यदि इन लोकसभा सीटों से शिवपाल सिंह यादव अपने प्रत्याशी उतारते हैं तो समाजवादी पार्टी के प्रत्याशियों की जीत कोई आसान बात नहीं है।

द संडे व्यूज़ एवं इंडिया एक्सप्रेस न्यूज़ की टीम ने इन लोकसभा सीटों का सर्वे किया तो वहां पर ज्यादातर लोगों का यही कहना है कि हमारे यहां का वोटर अभी तक कन्फ्यूज है। वे तय नहीं कर पा रहे हैं कि वोट किसे देना है । हमारे सर्वे से यह साफ है कि यदि शिवपाल सिंह यादव ने इन लोकसभा सीटों से अपने प्रत्याशी खड़े कर दिए तो समाजवादी पार्टी के प्रत्याशियों की जीत एक चुनौती की तरह होगी।

Post Author: thesundayviews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *