अमरोहा प्रकरण : सीसी के स्टैंप पर जो गवाह है, उसका बयान कब लेंगे मुख्यालय के अफसर ?

अमरोहा कमांडेंट ने घर पर खानाने बनाने वाली महिलाओं से कल स्टैंप पर कराया हस्ताक्षर

दूबेजी,ने महिलाओं से लिखवाया -उमेश देवी और नीरू शर्मा ने नहीं बनाया मेरे घर पर खाना

सवाल : दोनों महिलाओं ने 10 माह पहले सीसी को स्टैंप पर क्यों लिखा,कमांडेंट खाना बनवाता है ?

सवाल : सीसी के स्टैंप पर जो गवाह है, उसका बयान कब लेंगे मुख्यालय के अफसर ?

दूबे जी ने डीएम,अमरोहा,मुख्यालय भेजा स्टैंप पेपर

डीआईजी रजनी उपाध्याय ने 21 महिलाओं से लिया लिखित बयान

सभी की निगाहें डीआईजी की रिपोर्ट पर

संजय पुरबिया

लखनऊ। अमरोहा में कमांडेेंट मनीष दूबे ने एक झूठ को छिपाने के लिए दूसरा झूठ बोलकर अपने पद और वर्दी को शर्मशार करते चले जा रहे हैं। उन्होंने जिन दो महिलाओं उमेश देवी एवं नीरू शर्मा से अपने घर पर खाना बनवाया उन्हें भी बर्खास्त करने की धमकी देकर स्टैंप पेपर पर लिखा लिया कि उनलोगों ने कमांडेंट के घर पर खाना नहीं बनाया। इनमें एक महिला विधवा भी है। दूबे जी, मेरे सवाल का जवाब दें। अपनी घटिया करतूत और नौकरी बचाने के लिए आपने कल दोनों महिलाओं से स्टैंप पेपर पर अपने पक्ष में जवाब लिखवा लिया। यदि दोनों महिलाएं सच बोल रही हैं तो ये 10 माह से शांत क्यों बैठी थीं ?

इन महिलाओं ने आखिर कंपनी कमांडर त्रृषिपाल सिंह को 3 अप्रैल 2018 को स्टैंप पर क्यों लिखकर दिया था कि इनलोगों से कमांडेंट अपने घर पर खाना बनवाते हैं ? उस स्टैंप पर दोनों महिलाओं का हस्ताक्षर और फोटो कहां से आ गया ? दूबे जी,कंपनी कमांडर ने जो मुख्यमंत्री को पत्र लिखा है उसमें आपके घटिया कारनामों की कलई खोलते हुए इतने जवानों ने आपके खिलाफ हस्ताक्षर किया है,क्या इनलोगों पर भी बर्खास्तगी का दबाव डालकर लिखवा पाओगे…। खैर आपतो भ्रस्टाचार सहित कई मामलों में माहिर हो। डीआईजी रजनी उपाध्याय की जांच रिपोर्ट पर भी प्रदेश की निगाहें टिकी है क्योंकि उन्होंने 21 महिलाओं का बयान लिया है,उसमें कुछ तो सच बोलने की हिम्मत की होगी। क्योंकि आपका तो जुमला है कि मैं आयोग से आया हूं, मेरा कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता…। जनाब,आप आयोग से आए हो तो क्या बाकी सीनियर ऑफिसर कक्षा आठ पास हैं क्या ?

द संडे व्यूज़ ने सरकारी विभागों में चल रहे भ्रष्टाचार के खिलाफ हल्ला बोल चला रखा है। भ्रस्टाचार में नंबर वन पर चल रहे होमगार्ड विभाग में ‘योगी जी,होमगार्ड विभाग में जीरो टालरेंस नहीं,पुल करप्शन जारी है’ शीर्षक से अमरोहा कमांडेंट मनीष दूबे के खिलाफ जवान आक्रोशि हैं। जवानों ने द संडे व्यूज़,इंडिया एक्सप्रेस न्यूज वेब चैनल पर खुलकर कहा कि मनीष दूबे चरित्रहीन और भ्रष्ट अधिकारी है। ये अपने घर पर महिलाओं से खाना बनवाता है।

द संडे व्यूज़ के पास दो महिलाएं नीरू शर्मा और उमेश देवी के वे स्टांप पेपर हैं जो उन्होंने कमांडेंट मनीष दूबे के खिलाफ 3 अप्रैल 2018 को लिखे थे। खुलासा के पास दूबे जी को अपनी वर्दी और पद खतरे में पड़ता दिखा,उन्होंने आनन-फानन में दोनों महिलाओं को बर्खास्त करने की धमकी देकर नए स्टैंप पेपर पर लिखवा लिया कि दोनों कमांडेंट के आवास पर कभी खाना नहीं बनाई।

जवानों ने बताया कि कमांडेंट ने डीएम,अमरोहा को स्टैंप दिखाया और उसकी एक प्रति मुख्यालय भी भेज दिया है। देखना है कि भ्रष्ट कमांडेंट और कितने झूठ बोलेंगे,क्योंकि मुख्यालय के अलावा मुख्यमंत्री के यहां जवानों ने गवाही में सामूहिक हस्ताक्षर कर जो पत्र भेजा है उसमें दूबे जी के कारनामों सहित महिलाओं से खाना बनवाने की उच्च स्तरीय जांच कराने की मांग की है।

बता दें कि द संडे व्यूज़ के खुलासे के बाद डीजी जी एल मीना ने जांच बिठा दी और जांच अधिकारी डीआईजी,मुरादाबाद रजनी उपाध्याय 6 मार्च को अमरोहा गईं। उन्होंने बयान लेने के दौरान वहां बैठे कमांडेंट को बाहर का रास्ता दिखाया और 21 महिलाओं से बयान लिया है। कईयों ने कमांडेंट के पक्ष में बोला और कुछ ने सच बोलने की हिम्मत दिखाई। बयान लिखित है और देखना है आगे क्या होता है। बताया यह जाता है कि बयान देने वाली महिलाओं को अपने पक्ष में बोलने के लिए दूबे जी ने अपने चालक इकबाल, पीसी और दो महिला होमगार्ड मीना और लुम्रा खान को लगा रखा था।

आखिर में सवाल है कि कमांडेंट ने दोनों महिलाओं से स्टैंप पर जो लिखाया,चलिए मान लेते हैं वो सही है,तो क्या मुख्यालय और डीएम,अमरोहा ने 3 अप्रैल 2018 को उमेश देवी और नीरू शर्मा के स्टैंप पर दर्ज गवाह का बयान लिया? क्योंकि,सच का खुलासा तो गवाह के बयान के बाद ही खुलेगा,वर्ना…

Post Author: thesundayviews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *