video ऋषिपाल सिंह ने कहा अमरोहा के कमांडेंट मनीष दूबे चरित्रहीन हैं

योगी जी,होमगार्ड विभाग में जीरो टालरेंस नहीं, फुल करप्शन जारी है

अमरोहा के कंपनी कमांडर ने अपने ही कमांडेंट पर लगाए गंभीर आरोप

ऋषिपाल सिंह ने ये भी कहा कि, कमांडेंट मनीष दूबे भ्रष्ट है

ड्यूटी लगाने के नाम पर इंस्पेक्टर जिले से करते हैं 5 लाख रूपए की अवैध कमाई

मनीष दूबे की धौंस : मैं आयोग से आया हूं , मेरा अफसर कुछ नहीं बिगाड़ सकते?

संजय पुरबिया

लखनऊ। महिला दिवस के दिन देश में महिला सशक्तिकरण और महिलाओं के सम्मान में बड़ी-बड़ी बातें की जा रही है। लेकिन क्या सिर्फ महिला दिवस पर ही महिलाओं का सम्मान करना चाहिए? सरकार के नुमाइंदों ने यह जानने की कभी कोशिश की,सरकारी विभाग में काम करने वाली महिलाओं को अफसर सम्मान दे रहे हैं? देखा जाए तो यूपी में ना तो महिलाओं को सम्मान मिल रहा है और ना ही उन्हें अपमानित करने वाले अफसरों पर सख्त कार्रवाई की जा रही है। तभी तो,बेलगाम अफसर महिला उत्पीडऩ के अलावा भ्रस्टाचार को बढ़ावा देते चले जा रहे हैं…। होमगार्ड विभाग में अमरोहा के कमांडेंट मनीष दूबे,जहां महिलाओं का अपमान कर रहे हैं वहीं वे भ्रस्टाचार को भी बढ़ावा देकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के जीरो टालरेंस की सोच पर तमाचा मारने का काम कर रहे हैं।

उत्तर प्रदेश में भाजपा की सरकार बनते ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जीरो टॅालरेंस की बात कही थी। इस पर वे खरे उतर रहे हैं लेकिन होमगार्ड विभाग में ऐसा देखने को नहीं मिल रहा है। यही वजह है कि होमगार्ड विभाग के अफसर आजकल भ्रस्टाचार के अलावा अपने कैरेक्टर को लेकर सुर्खियों में हैं। इस विभाग के अफसरों के मुंह में हराम की कमाई की कमाई का खून लग

चुका है। वे नहीं चाहते हैं कि अपने जवानों को ईमानदारी का पाठ पढ़ाए। अमरोहा के कमांडेंट मनीष दूबे पर उनके ही कंपनी कमांडर ने चरित्रहीन और भ्रस्टाचार का गंभीर आरोप लगाकर सरकार के सामने महिला उत्पीडऩ और भ्रस्टाचार का असली चेहरा उजागर किया है।

अमरोहा के कंपनी कमांडर ऋषिपाल सिंह ने कमांडेंट मनीष दूबे पर आरोप लगाया है कि वे अपने आवास पर सिर्फ महिलाओं को ही खाना बनाने के लिए बुलाने का दबाव डालते हैं। मनीष दूबे ने श्रीमती उमेश देवी को 1 मार्च 2018 से लेकर 31 मार्च 2018 तक अपने आवास पर रात में खाना बनाने के लिए बुलाते रहें। एक माह तक उमेश देवी मनीष दूबे के यहां खाना बनाती रही। जब वेतन देने की बारी आई तो कमांडेंट ने उमेश देवी की ड्यूटी दूसरी जगह दिखाकर हस्ताक्षर करा लिया।

द संडे व्यूज़ के पास वो स्टैंप पेपर है जिस पर उमेश देवी ने लिखा है कि 1 मार्च से लेकर 31 मार्च तक उसने कमांडेंट मनीष दूबे के आवास पर खाना बनाया लेकिन सेलरी महिला थाने में तैनाती दिखाकर दी गई। अमरोहा में जवानों से ड्यूटी लगाने के नाम पर 500 रुपए से लेकर 1500 रुपए तक की वसूली की जा रही है।

सवाल ये है कि अमरोहा कमांडेंट मनीष दूबे के खिलाफ इतने सबूत होने के बाद भी होमगार्ड मंत्री अनिल राजभर सख्त कार्रवाई कर विभाग की साख बचाएंगे? सवाल ये भी है क्या मुख्यालय के अफसर इस मामले में जांच की खानापूरी करेंगे या मनीष दूबे पर कार्रवाई कर ये संदेश देंगे कि महिलाओं का अपमान करने एवं भ्रस्टाचार करने वाले अफसर आयोग से आए हों या वे प्रमोटी हों,उन्हें नहीं छोड़ा जाएगा

Post Author: thesundayviews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *