पुलिस की कलंक गाथा : पुलिस ने ही डाला कोयला कारोबारी के घर डाका, मुखबिर के साथ मिल दिया वारदात को अंजाम

फुटेज में बैग ले जाते दिखे मुखबिर व दरोगा

दरोगाओं के कमरे से मिले 36 लाख

व्यापारी ने दर्ज कराई एफआईआर, दरोगा निलम्बित

लखनऊ।

लखनऊ के गोसाईगंज थाने के सब इंस्पेक्टर पवन मिश्रा,आशीष तिवारी व सिपाही प्रदीप भदौरिया ने मुखबिर के साथ साजिश कर ऐसी डकैती डाली जिसने पूरे पुलिस महकमे को शर्मसार कर दिया।  इन पुलिसकर्मियों ने मुखबिर और एक वकील के साथ मिलकर ओमेक्स रेजीडेंसी में कोयला कारोबारी अंकित अग्रहरि के फ्लैट में छापा मारा, फिर वहां मारपीट की और एक करोड़ 85 लाख रुपये अपने ठिकानों पर पहुंचा दिये। फिर इस फ्लैट में तीन करोड़ 38 लाख रुपये का काला धन बरामद होने की सूचना अफसरों को दी।  कारोबारी ने अपने परिचित मंत्री को पुलिसकर्मियों की करतूत बतायी। इसके बाद जैसे ही एसएसपी को इस बारे में पता चला तो उन्होंने एएसपी ग्रामीण को जांच सौंपी। जांच में पुलिसकर्मियों की असलियत सामने आ गई और उनके घर से 36 लाख रुपये बरामद भी हो गये। इस पर एसएसपी ने पूरे प्रकरण को गम्भीरता से लिया और आरोपी पुलिसकर्मियों व वकील समेत सात लोगों के खिलाफ डकैती का मुकदमा दर्ज कराया। साथ ही सब इंस्पेक्टर पवन, आशीष व सिपाही प्रदीप को गिरफ्तार करा दिया। अन्य फरार आरोपियों की तलाश की जा रही है।

एसएसपी कलानिधि नैथानी ने बताया कि फ्लैट में करोड़ों रुपये बरामद होने की सूचना पर जब उन्हें एसआई पवन मिश्रा के वहां होने की बात पता चली तो वह चौंक गये। पवन लम्बे समय से गोसाईगंज थाने से गैरहाजिर चल रहा था। फिर इसने पुलिस लाइन में अपनी आमद करायी थी। ऐसे में वह वहां क्या कर रहा था? इस पर उन्हें लग गया कि कुछ गड़बड़ी की गई है। एएसपी विक्रान्त वीर को जांच के लिये भेजा। यहां पर जब फुटेज देखी गई तो उसमें पवन मिश्र व मुखबिर मधुकर बैग लेकर जाते दिखे। इस बारे में पवन व मधुकर जवाब नहीं दे सके कि बैग बाहर भेजने के बाद सूचना क्यों दी गई?

लूटपाट की पुष्टि होने के बाद ही एसएसपी के आदेश पर एसआई पवन मिश्रा, आशीष तिवारी व सिपाही प्रदीप भदौरिया को गोसाईंगंज पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। इसके बाद एएसपी के निर्देश पर पवन व आशीष के घर पर पुलिस फोर्स भेजी गई। इन दोनों के यहां से करीब 36 लाख रुपए बरामद भी हो गये। हालांकि इस बारे में पुलिस कुछ बोल नहीं रही है।

एसएसपी कलानिधि नैथानी ने बताया कि अंकित अग्रहरि की तहरीर पर गोसाईंगंज थाने में एसआई पवन मिश्रा, आशीष तिवारी, मधुकर मिश्रा व चार अन्य के खिलाफ डकैती का मुकदमा दर्ज किया गया है। उन्होंने बताया कि आरोपी पुलिसकर्मियों को निलम्बित करने के साथ ही गिरफ्तार कर छानबीन की जा रही है।

कोयला कारोबारी के फ्लैट से करोड़ों रुपए की ब्लैक मनी मिलने की जानकारी मिलते ही सीओ मोहनलालगंज राजकुमार शुक्ला व एसओ गोसाईंगंज अजय प्रकाश त्रिपाठी भी मौके पर पहुंच गए। सीओ के सामने ही फ्लैट से बरामद हुए रूपयों की गिना गया। जिसमें 500 व दो हजार के नोट थे। सीओ ने राजस्व व आयकर विभाग को काला धन मिलने की जानकारी दी। साथ ही फ्लैट से मिले कुल 1.53 करोड़ रुपए बक्से में सील कर भिजवा दिए। सीओ के मुताबिक बेड व दीवान में नोटों की गड्डियां छिपा कर रखी गई थी। इतनी बड़ी मात्रा में नकदी कहां से आई। इसकी जांच राजस्व व आयकर अधिकारी कर रहे हैं।

Post Author: thesundayviews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *