रसड़ा का एटीएम खराब, मैनेजर का जवाब- ऊपर तक बात पहुंचा दी है

सरकार को यूनियन बैंक मैनेजरों को तमीज की ट्रेनिंग देने की जरूरत है

लगन चलने की वजह से उपभोक्ताओं को हो रही है परेशानी

संवाददाता
रसड़ा । भाजपा राज में ग्राहकों को बेहतर सुविधा देने के लिए सरकार ने कई योजनाएं चला रखी है लेकिन एक चूक हो रही है। सरकार के नुमाइंदों को बैंक मैनेजरों को ट्रेनिंग देने की जरूरत है कि वे अपने उपभोक्ताओं से किस तरह से पेश आएं,क्योंकि बैंक उपभोक्ताओं से चल रहा है ना कि मैनेजर की कुर्सी पर बैठे दंभी मैनेजरों से। रसड़ा में कई सप्ताह से यूनियन बैंक का एटीएम खराब पड़ा है। उपभोक्ता जब मैनेजर से बात करते हैं तो सीधा जवाब मिलता है कि ऊपर तक शिकायत कर पहुंचा दिया है…। क्या इतना कहने से उपभोक्ताओं की दिक्कते दूर हो जाएंगी? क्या मैनेजर का दायित्व नहीं बनता कि वो एटीएम शीघ्र ठीक कराए? वैसे भी इस समय लगन चलने की वजह से हर कोई बैंक और एटीएम की ओर दौड़ रहा है।


बैंक कर्मचारियों को ट्रेनिंग में ग्राहकों के साथ कुशल व्यवहार करने सहित तमाम तरह के निर्देश दिए जाते है। अच्छे लोग, अच्छे बैंक। ग्राहक देवता तुल्य है, इनका अपमान न करे। इन सब स्लोगन बैंकों में देखने को मिलता है। जब ग्राहकों से सर्विस टैक्स वसूलने की बात आती है तो बैंक तनिक भी देर नहीं लगाते लेकिन जब उपभोक्ताओं को सुविधाएं मुहैया कराने का सवाल उठता है तो बैंकों की लापरवाही आने लगती है। उपभोक्ता दर- दर की ठोकरे खाने पर मजबूर हो जाते है। कुछ ऐसे ही हालात से इन दिनों बलिया जनपद के रसड़ा वासियों को आये दिन बैंकों में झेलना पड़ रहा है।

आलम यह है कि स्थानीय यूनियन बैक की रसड़ा शाखा में काफ ी दिनों से एटीएम मशीन खऱाब होने से उपभोक्ता परेशान है । शादी- विवाह का दिन होने से ग्रामीण क्षेत्रों से लोग काफी संख्या में खरीदारी करने के लिए पैसा निकालने के लिए यूनियन बैंक के एटीएम में तो आते हैं मगर एक सप्ताह से अधिक एटीएम बंद होने से जरूरतमंद उपभोक्ता बैंक मैनेजर के चक्कर लगा कर लौट जा रहे हैं ।
यूनियन बैंक के मैनेजर से जानकारी लेनी चाहिए मगर घमंड में चूर अपने अंदाज में कहा कि शिकायत ऊपर कर दिया गया है । आप जिम्मेदार पद पर हैं, बैंक उपभोक्ताओं को संतुष्ट करना आपका काम है। सवाल का उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया। यह स्थिति तब है, जब प्रदेश व केंद्र की सरकार उपभोक्ताओं को लाभान्वित करने के लिए बैंक से सम्बंधित तमाम योजनाएं चला रही है। यूनियन बैंक को श्रेष्ठ बैंकों की श्रेणी में गिना जाता है लेकिन बैंक मैनेजर की लापरवाही एवं उदासीनता ग्राहकों पर इन दिनों भारी पड़ रही है।

Post Author: thesundayviews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *