पुलवामा आतंकी हमला: पुतिन ने कहा, भारत के साथ है रूस; सऊदी अरब ने बताया ‘कायराना हरकत’

सऊदी अरब ने आतंकवाद और चरमपंथ के खिलाफ भारत की लड़ाई का समर्थन किया

एजेंसी,नई दिल्ली

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सुरक्षाबलों पर हुए आतंकी हमले की रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने निंदा की और कहा कि हमले के षडयंत्रकर्ताओं के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए। इसके साथ ही पुतिन ने कहा कि आतंक के खिलाफ लड़ाई में उनका देश भारत के साथ है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भेजे गए एक संदेश में कहा, ”जम्मू-कश्मीर में आतंकवादी हमले में भारतीय सुरक्षाकर्मियों की मौत पर कृपया हमारी संवेदनाएं स्वीकार करें। हम इस जघन्य अपराध की निंदा करते हैं। इस हमले के षडयंत्रकारियों को निश्चित रूप से कड़ी सजा मिलनी चाहिए।” उन्होंने कहा, ”मैं भारतीय सहयोगियों के साथ आतंकविरोधी सहयोग को और मजबूत करने की अपने तैयारी को दोहराना चाहूंगा। रूस में, हम दोस्ताना रवैया रखनेवाले भारतीय लोगों के दुखों को साझा करते हैं और घायलों के तेजी से ठीक होने की उम्मीद करते हैं।”


सऊदी अरब ने शुक्रवार को कहा कि वह आतंकवाद और चरमपंथ के खिलाफ भारत की लड़ाई में उसके साथ खड़ा है तथा उसने जम्मू कश्मीर के पुलवामा में पाकिस्तान के आतंकवादी संगठन जैश-ए- मोहम्मद के आत्मघाती हमले को ‘कायराना कृत्य करार दिया। सऊदी अरब की यह कड़ी भर्त्सना ऐसे समय आयी है जब सऊदी अरब के शहजादे मोहम्मन बिन सलमान बिन अब्दुलअजीज अल साद शीर्ष भारतीय नेतृत्व के साथ अगले हफ्ते बातचीत करने के लिए भारत की राजकीय यात्रा पर आने वाले हैं। पुलवामा में जैश ए मोहम्मद के आत्मघाती बम हमलावर के हमले में सीआरपीएफ के कम से कम 44 जवान शहीद हो गये।

इस आतंकवादी हमले की कड़ी निंदा करते हुए सऊदी अरब के विदेश मंत्रालय ने कहा कि अर्धसैनिक काफिले को निशाना बनाकर किये गये इस विस्फोट की वह निंदा करता है। सरकारी संवाद समिति सऊदी प्रेस एजेंसी ने विदेश मंत्रालय के सूत्र के हवाले से कहा कि सऊदी अरब इन कायरना आतंकवादी कृत्यों को खारिज करता है और वह आतंकवाद एवं चरमपंथ के खिलाफ लड़ाई में ‘मित्र भारत गणतंत्र के साथ खड़ा है। सऊदी प्रेस एजेंसी के अनुसार सऊदी अरब ने इस हमले में शहीद हुए जवानों के परिवारों, घायल हुए जवानों, भारत सरकार एवं भारत की जनता के प्रति संवेदना प्रकट की और घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की।

पाकिस्तानी नेतृत्व के साथ बातचीत के लिए शनिवार को इस्लामाबाद पहुंच रहे शहजादे मंगलवार (19 फरवरी) को भारत की दो दिवसीय यात्रा पर नयी दिल्ली पहुंचेंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें भारत आने का न्यौता दिया था। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने बृहस्पतिवार को नई दिल्ली में कहा था, ”जिन विषयों पर चर्चा होगी, वे निवेश, रक्षा, सुरक्षा, आतंकवाद के विरुद्ध अभियान, और नवीकरणीय ऊर्जा हैं।

Post Author: thesundayviews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *