गठबंधन से भयभीत नहीं तो खंभा नोचने जैसा व्यवहार क्यों ?

लखनऊ

बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा है कि सपा-बसपा गठबंधन से भाजपा भयभीत है। भाजपा अगर भयभीत नहीं है तो इनका शीर्ष नेतृत्व खिसीयानी बिल्ली खंभा नोचे की तरह व्यवहार क्यों कर रहा है। गठबंधन से भाजपा की केवल नींद ही नहीं उड़ी है। इसके चलते ही जागते-सोते, उठते-बैठते व अपने हर छोटे बड़े कार्यक्रमों में गठबंधन को ढकोसला बताकर कोसकते रहते हैं। अलीगढ़ के कार्यक्रम में फिर यही सब सुनने को मिला।

मायावती ने बुधवार को अलीगढ़ में भाजपा के बूथ कार्यकर्ता कार्यक्रम में अमित शाह के बयान पर प्रतिक्रिया में कहा है कि सर्वसमाज के लोग गठबंधन को ज्यादा जिद से मजबूत करने में जुटे हुए हैं। भाजपा को वास्तव में अब पूरी तरह से लग गया है कि गठबंधन के कारण यूपी में उसकी बुरी तरह हार होने वाली है। इसीलिए भाजपा केंद्र की सत्ता हाथ से जाते हुए देखकर गठबंधन को बदनाम करने में लगी है। वैसे भी कोई भी साजिश व हथकंडा सफल होने वाला नहीं है। भाजपा की जनविरोधी नीतियों व गलत और अहंकारी कामों से देश की जनता दुखी है और इनसे मुक्ति चाहती है।

उन्होंने कहा है कि सभी को पता है कि भाजपा व इनकी केंद्र व राज्य सरकारों खासकर यूपी में जिस तरह जातिवादी राजनीतिक द्वेष, धार्मिक उन्माद व सांप्रदायिकता को सरकारी संरक्षण व बढ़ावा दिया है उससे आज सारा देश त्रस्त व चिंतित है। मायावती ने अयोध्या में राम मंदिर पर कहा कि भाजपा का असल मुद्दा देश को धार्मिक उन्माद व संकीर्ण सोच के आधार पर चलाना है। भाजपा एंड कंपनी के संविधान और कोर्ट, कानून से ऊपर मानकर चलाने से देश आज अनेको प्रकार के संकटों से गुजर रहा है। इस कारण देश की लगभग सवा सौ करोड़ जनता बेवजह ही इनकी चक्की में पिस रही है।

 

 

Post Author: thesundayviews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *