सुधाकराचार्य पाण्डेय ने मृतक होमगार्ड के परिजनों को सौंपा 41 हजार रुपए का चेक

 नेक नियत,मदद करने का जज्बा कोई सुधाकराचार्य पाण्डेय से सिखे

मृतक आश्रित में नौकरी का दिलाया भरोसा

विभाग का हर जवान मेरे परिवार के सदस्यों की तरह है :सुधाकराचार्य पाण्डेय

शासन एवं डीजी के निर्देश पर अमल करना ही मेरा लक्ष्य

संजय पुरबिया

मेरठ। ऊपर बैठा अधिकारी यदि नेक नियत व टीम भावना के साथ काम करने वाला हो तो एक बात जान लीजिए कि वहां समस्याएं आ ही नहीं सकती। यदि होगी भी तो चंद लम्हों के लिए, क्योंकि टीम का हर सदस्य एकजुट होकर उन समस्याओं का निस्तारण करने में जुट जाता है। जब अधिकारी अपने मातहतों की हर समस्याओं में एक परिवार की तरह शामिल रहता है तो उसे दुआए देने वालों की संख्या भी बहुतायत होती है। होमगार्ड विभाग की खबरों में मेरे कलम से आक्रामकता ज्यादा निकलती है लेकिन जब कुछ अधिकारी शानदार काम करते हैं तो उन्हें सैल्यूट करने से नहीं चूकता। ऐसा ही एक मामला मेरठ मंडल में आज देखने और सुनने को मिला।

कमांडेंट सुधाकराचार्य तो वैसे ही विभाग में मददगार अधिकारियों में शुमार हैं लेकिन आज उन्होंने कंपनी सरधना के मृतक होमगार्ड के गांव चलावा पहुंचे। वहां उन्होंने उसकी पत्नी रचना देवी से मिलकर सहायता राशि 41000 रुपए की आर्थिक मदद देकर विभाग का नाम गौरवान्वित किया। इस नेक काम की गांव वालों ने जमकर प्रशंसा की।


होमगार्ड देवकुमार वर्ष 2006 में मेरठ मंडल में भर्ती हुआ था। 4 नवंबर 2018 को डयूटी खत्म कर वो अपने घर जा रहा था,रास्ते में दुर्घटना में उसकी मृत्यु हो गई। देव के तीन बच्चे हैं। कमांडेंट सुधाकराचार्य पाण्डेय आज उसके गांव गए और उसकी पत्नी को 41 हजार रुपए का चेक दिए। इस दौरान वहां मौजूद ग्राम प्रधान सहित समस्त ग्रामीणों ने कमांडेंट की नेक नियति की सराहना की और जयकारा लगाया।

Post Author: thesundayviews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *