डीजीपी मुख्यालय में तैनात नशे में धुत एएसपी ने भाजपा नेता के रेस्टोरेंट में किया बवाल

विवेक की तरह हमें भी मार देंगे

लखनऊ। डीजीपी मुख्यालय में एडीजी कानून एवं व्यवस्था के कार्यालय में तैनात एक एएसपी ने गुरुवार रात गोमतीनगर के एक रेस्त्रां में जमकर बवाल किया। रेस्त्रां संचालक के मुताबिक एएसपी की गाड़ी में किसी ने टक्कर मार दी थी और वह आरोपी की तलाश में रेस्त्रां में लगे सीसी कैमरों की फुटेज देखने आए थे। आरोप है कि नशे में धुत एएसपी ने बिना किसी बात के ही कर्मचारी को थप्पड़ जड़ दिया और गाली-गलौज करने लगे।बवाल की सूचना पर पहुंची गोमतीनगर पुलिस ने भी एएसपी का साथ देते हुए कर्मचारियों को मारापीटा और रेस्त्रां में तोड़फोड़ की। घटना की खबर फैलते ही सैकड़ों कार्यकर्ता व व्यापारी मौके पर पहुंच गए। हंगामा बढ़ते देख एएसपी व अन्य पुलिस कर्मी वहां से चंपत हो गए। पीड़ित ने एएसपी व आरोपी पुलिस कर्मियों के खिलाफ तहरीर दी है। उधर,भाजपा नेताओं ने एसएसपी से मामले की शिकायत की है।

भाजपा के क्षेत्रीय महामंत्री त्रयम्बक तिवारी के छोटे भाई मयंक तिवारी का ग्वारी क्रासिंग के पास रेस्त्रां हैं। बुधवार रात 8:30 बजे के करीब मयंक रेस्त्रां में बैठे थे। इस बीच डीजीपी ऑफिस में तैनात एएसपी वहां पहुंच गए। मयंक के मुताबिक एएसपी ने काउंटर पर बैठे कर्मचारी राहुल से रेस्त्रां के बाहर लगे सीसी कैमरे की फुटेज तुरंत दिखाने को कहा। इस पर राहुल ने उनसे परिचय पूछते हुए थोड़ा इंतजार करने की बात कही। आरोप है कि इस पर एएसपी भड़क गए और कर्मचारी राहुल को थप्पड़ जड़ दिया। विवाद होते देख दूसरे कर्मचारियों ने बीच-बचाव का प्रयास किया तो एएसपी ने गाली-गलौज शुरू कर दी। इस बीच कई लोग इक्ट्ठा हो गए तो खुद को घिरता देख एएसपी ने गोमतीनगर पुलिस को फोन करके बुला लिया।

मयंक का आरोप है कि गोमतीनगर पुलिस ने भी एएसपी का साथ देते हुए पहले रेस्त्रां में तोड़फोड़ की और फिर शटर बंद करवा दिया। इसके कुछ ही देर बाद इंस्पेक्टर गोमतीनगर त्रिलोकी सिंह भी घटनास्थल पहुंच गए। आरोप है कि गोमतीनगर सीओ और इंस्पेक्टर ने रेस्त्रां मालिक पर समझौता करने का दबाव बनाया। उधर, भाजपा नेता के रेस्त्रां में बवाल की सूचना पर कई समर्थक व व्यापारी मौके पर जुटने लगे। भीड़ को उग्र होता देख आरोपी एएसपी व अन्य पुलिस कर्मी वहां से खिसक लिए। बाद में भाजपा नेता त्रयम्बक तिवारी ने मारपीट करने वाले एएसपी के खिलाफ गोमतीनगर थाने में तहरीर दी। हालांकि इंस्पेक्टर त्रिलोकी सिंह ने तहरीर मिलने से इनकार किया है। उनका कहना है कि शिकायत मिलने पर जांच की जाएगी।

रेस्त्रां मालिक मयंक तिवारी ने बताया कि घटना के वक्त वह परिवार के साथ घूमने जाने वाले थे। तभी एएसपी वहां पहुंच गए। मयंक के मुताबिक एएसपी की गाड़ी उनके रेस्त्रां के पास खड़ी की थी। जिसमें किसी अज्ञात वाहन ने टक्कर मार दी थी जिससे गाड़ी का शीशा टूट गया था। एएसपी अपनी गाड़ी में टक्कर मारने वाले शख्स की तलाश में रेस्त्रां में लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज चेक करने आए थे। इसी दौरान उन्होंने बवाल कर दिया।

भाजपा नेता त्रयम्बक तिवारी ने एसएसपी कलानिधि नैथानी को फोन करके पुलिस कर्मियों की गुण्डई की शिकायत की। इस दौरान उन्होंने एसएसपी से कहा कि.. आपकी पुलिस ने विवेक तिवारी को गोली मारकर मौत के घाट उतार दिया था। क्या हम लोगों को भी इसी तरह मार दिया जाएगा। त्रयम्बक तिवारी ने बताया कि एएसपी के बुलाने पर पहुंचे गोमतीनगर थाने के एसआई अमरनाथ यादव और एसआई राजवीर सिंह ने भी कर्मचारियों को पीटा और उन्हें जेल भेजने की धमकी दी। पीड़ित का आरोप है कि पुलिस कर्मी उन पर तहरीर वापस लेने का दबाव बना रहे हैं।

रेस्त्रां में बवाल के दौरान पुलिस ने कर्मचारियों के अलावा वहां बैठे ग्राहकों से भी अभद्रता की। मौके पर पहुंची गोमतीनगर पुलिस ने कर्मचारियों को पीटना शुरू कर दिया। इस दौरान केजीएमयू के डॉक्टर शिवम कुमार रेस्त्रां में कॉफी पी रहे थे। पुलिस ने डॉ. शिवम को रेस्त्रां का कर्मचारी समझ कर उन्हें भी खींचकर जीप में बैठा लिया। पुलिस का यह रूप देख तमाम ग्राहक जान बचाकर भाग खड़े हुए।

Post Author: thesundayviews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *