गुप्तचर एजेंसी का मानना है 15 अगस्त पर आतंकवादी कर सकते हैं ड्रोन का इस्तेमाल

आतंकवाद का नया हथियार ड्रोन, आसमान पर मंडराती मौत

रोमेश चतुर्वेदी

दिल्ली। हिन्दुस्तान भर में 15 अगस्त और इलाहाबाद में महाकुम्भ की तैयारियां जोरों पर है। इस दरम्यान पूरे विश्व की निगाहें अपने देश पर होती है। 15 अगस्त के जश्न में जहां पूरा देश देशभक्ति के माहौल में रंगा होता है वहीं महाकुम्भ में देश-विदेश के लाखों श्रद्धालु संगम नगरी इलाहाबाद में आस्था की डुबकी लगाने आते हैं। आतंकी संगठन इस ताक में रहते हैं कि इन अवसरों पर कोई बड़ी वारदात को अंजाम दे। दिल्ली के गुप्तचर एजेंसियों के हवासे से ऐसी खबर आ रही है कि इस बार 15 अगस्त और इलाहाबाद में होने वाले महाकुंभ में आतंकी हमले के लिए ड्रोन का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसलिए सुरक्षा एजेंसियों को आसमान को भी सुरक्षित रखना होगा क्योंंकि अब आतंकवादी संगठनों का इरादा आसमान से मौत बरसाने का है।

इलाहाबाद में महाकुम्भ जैसे आयोजन में मात्र कुछ महीने ही बचे हैं, क्या हम सुरक्षा को लेकर पूरी तरह तैयार हैं ? लाखों श्रद्धालुओं से भरे इलाहाबाद और संगम तट के आसमान को भी सुरक्षा एजेंसियो को महफू ज रखना होगा।

15 अगस्त के मद्देनजर दिल्ली में गुप्तचर एजेंसियों के हवाले से ऐसी खबर आयी है कि आतंकवादी हमले के लिए ड्रोन का इस्तेमाल कर सकते हैं। पूरी दुनिया इस नए खतरे के चपेट में है।आईएसआईएस और हिजबुल जैसे आतंकी संगठनों ने ड्रोन ऑपरेशन और तकनीक की ट्रेनिंग अपने गुर्गो को देनी शुरू कर दी है। भारत में सक्रिय आतंकवादी संगठन आईएसआई के सहयोग से इसके द्वारा बड़े हमले की फि राक में हैं। उत्तर प्रदेश सरकार को सचेत होना होगा। विश्व के सबसे बड़े समागम में आसमान पर कोई ऐसी सुरक्षा छतरी ताननी होगी जिससे ये आयोजन बिना किसी दुर्घटना के संपन्न हो सके। ये ड्रोन किसी भी तरह के विध्वंशक और तबाही लाने वाले बम, केमिकल और बायो हथियारों को ले जाने में सक्षम हैं।

आज विश्व में जो और जहां भी सुरक्षा घेरा है उसमे इस ड्रोन के खतरे ने सेंध लगा दिया है। वीआईपी व्यक्तिओं, हमारे परमाणु रिएक्टर्स, हमारे संवेदनशील और महत्वपूर्ण इमारतें, हमारी सीमाएं, सब इस खतरे की जद में आ चुके हैं। इस खतरे की तरफ से आंख मंूदना भारी पड़ सकता है। हमें इस चुनौती से निपटने का कोई ना कोई कारगर रास्ता खोजना ही होगा।
—————

Post Author: thesundayviews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *