सांस्कृतिक धरोहर है कुंभ मेला: स्वामी चिदानंद

रिषिकेष

परमार्थ निकेतन के अध्यक्ष स्वामी चिदानंद सरस्वती महाराज ने इलाहाबाद पहुंचकर विभिन्न विभागीय अधिकारियों से गंगा प्रदूषण पर रोक लगाने के लिए चर्चा की। उन्होंने प्रयाग में कुंभ मेले के दौरान पर्यावरण संरक्षण का संदेश देने का आह्वान किया। शुक्रवार को परमार्थ निकेतन के अध्यक्ष स्वामी चिदानंद सरस्वती महाराज ने इलाहाबाद में शहरी विकास मंत्री उत्तरप्रदेश सरकार सुरेश खन्ना, इलाहाबाद कमिश्नर आशीष गोयल, विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष भानुचन्द्र गोस्वामी एवं अन्य कई उच्चाधिकारियों से भेंट वार्ता की।
स्वामी चिदानंद महाराज ने जल निगम के महाप्रबंधक से गंगा में गिरते नालों के लिये विशेष रूप से चर्चा की। उन्होंने जल प्रदूषण नियंत्रण विशेषज्ञ रजनीश मेहरा से गंगा में गिरते गंदे नालों को टेप करने पर विशेष चर्चा की। स्वामी चिदानन्द सरस्वती महाराज ने कहा कि कुम्भ मेला सांस्कृतिक धरोहर के साथ भारत ही नहीं पूरे विश्व के लोगों के लिये आस्था और आर्कषण का केन्द्र है। कुम्भ के दौरान पूरे प्रयाग क्षेत्र में स्वच्छता, शौचालय की उचित व्यवस्था, उचित जल प्रबंधन एवं हरियाली संवर्धन कर विदेशी सैलानियों को भी आकर्षित कर सकते है।मंत्री सुरेश खन्ना ने कहा कि स्वामी चिदानंद महाराज के सान्निध्य में प्रतिवर्ष परमार्थ निकेतन में होने वाले अन्तर्राष्ट्रीय योग महोत्सव में विश्व के 101 से अधिक देशों के योग जिज्ञासुओं सहभाग करते है। इसी तरह की रणनीति बनाकर हम विश्व के विभिन्न देशों से श्रद्धालुओं को आकर्षित कर सकते है। गंगा एवं भारत की सभी नदियों के किनारों पर होने वाले मेले एवं स्नान के अवसर पर प्लास्टिक को प्रतिबंधित करने पर नदियों को प्रदूषण मुक्त किया जा सकता है। हम कुम्भ के दौरान प्रयाग आने वाले पूज्य संतों को पर्यावरण संरक्षण का प्रतिक रूद्राक्ष, पीपल, तुलसी और विभिन्न प्रजातियों के पौधे भेंट करने की योजना बना रहे है। स्वामी चिदानंद महाराज ने शहरी विकास मंत्री उत्तरप्रदेश सरकार सुरेश खन्ना को शिवत्व का प्रतीक रूद्राक्ष का पौधा भेंट कर कुम्भ को हरित और यादगार बनाने का संकल्प कराया। उन्होंने सभी अधिकारियों को परमार्थ गंगा आरती में सहभाग हेतु आमंत्रित भी किया।

 

Post Author: thesundayviews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *