होमगार्ड में विभागीय आईजी के पद को क्यों नहीं हजम कर पा रहे हैं आईपीएस ?

प्रमुख सचिव ने होमगार्ड विभाग में लिया ऐतिहासिक फैसला,डीजी से हुई बड़ी चूक

अब होमगार्ड विभाग के अफसर बोलेंगे: ये वर्दी मेरी पहचान है

प्रमुख सचिव ने इस विभाग के समूह क एवं ख संवर्ग के राजपत्रित अधिकारियों को दिया रैंक आफ बैजेज

नई व्यवस्था के तहत डीआईजी,मंडलीय कमांडेंट, कमांडेंट के लिए तय किए गए वर्दी व स्टार

विभागीय आईजी के लिए नहीं निर्धारित की गई वर्दी

होमगार्ड में विभागीय आईजी के पद को क्यों नहीं हजम कर पा रहे हैं आईपीएस ?

आईजी की वर्दी के लिए शासन को पत्र लिखेंगे: सूर्य शुक्ला
संजय पुरबिया

लखनऊ।

उत्तर प्रदेश में होमगाड्र्स विभाग के समूह क एवं ख के अफसर अब शान से कह सकेंगे कि ये मेरी वर्दी है। उनके वर्दी पर भी अशोक स्तम्भ के साथ पांच कोने के सफेद धातु के स्टार शोभायमान होंगे। ये करिश्मा होमगार्ड विभाग के प्रमुख सचिव कुमार कमलेश और डीजी डॉ. सूर्य कुमार शुक्ला ने कर दिखाया है। 22 मई को आदेश जारी कर दिया गया है और इस विभाग के उप-महासमादेष्टïा, वरिष्ठ  स्टॉफ अधिकारी, मंडलीय कमांडेंट व उनके समकक्ष अधिकारी, कनिष्ठ स्टाफ अधिकारी, जिला कमांडेंट, मंडलीय प्रशिक्षण केन्द्र के कमांडेंट एवं उनके समकक्ष पद धारकों को उनकी वर्दी मिलेगी। वाकई ये इस विभाग के लिए खुशी की बात है क्योंकि इसकी मांग वर्षों की जा रही थी। इस दौरान न जाने कितनी सरकारें बदली, कितने मंत्री बदल गए और ना जाने कितने प्रमुख सचिव व डीजी…। ये होमगार्ड विभाग के लिए खुशी की बात है लेकिन शासनादेश में ये नहीं लिखा है कि विभागीय आईजी के लिए किस कलर की वर्दी और रैंक आफ बैजेज का निर्धारण किया गया है? क्या आईजी साहेब बेवर्दी रहेंगे या फिर उनके लिए भी कुछ नया सोचा गया है ?

उत्तर प्रदेश में पुलिस सहित अन्य बलों को उनकी वर्दी और स्टार से पहचाना जाता है लेकिन होमगार्ड विभाग में समूह क एवं ख संवर्ग के अफसरों के पास उनकी वर्दी नहीं थी। कई बार अफसरों ने पुलिस विभाग के अफसरों की तरह कैप एवं बैज लगाकर देखे गए। पूर्व में इसी बात को लेकर तात्कालीन प्रमुख सचिव ने कई अफसरों के खिलाफ मुकदमा तक दर्ज करा चुके हैं। ऐसा नहीं कि होमगार्ड विभाग के अफसरों ने अपनी वर्दी एवं बैच के लिए शासन को अवगत नहीं कराया। सरकारें बदलती रहीं और पत्रावलियां भी शासन में धूल फांकती गई लेकिन भाजपा सरकार में मीलों चली पत्रावलियां निकाली गई और आखिरकार अफसरों की मेहनत रंग लाई। बताया जाता है कि प्रमुख सचिव होमगार्ड कुमार कमलेश के सामने डीजी डॉ. सूर्य कुमार शुक्ला इस विभाग की अपनी पहचान और वर्दी की बात को प्रमुखता से रखा। कुमार कमलेश ने इस मसले को गंभीरता से लिया और युद्ध स्तर पर इस बात को उठाया। परिणाम सामने है। वर्षों से की जा रही मांग पूरी हो गई है। अब होमगार्ड विभाग के अफसरों की अपनी वर्दी और बैज होंगे।

23 मई को संयुक्त सचिव, सत्येन्द्र कुमार सिंह ने डीजी,होमगार्ड को पत्र लिखकर अवगत कराया है कि होमगार्ड विभाग के समूह क एवं ख संवर्ग के राजपत्रित अधिकारियों को वर्दी धारण करने का आदेश निर्गत किया जा रहा है। उप समादेष्टïा पद के अधिकारी अशोक स्तम्भ के साथ तीन पांच कोने के सफेद धातु के स्टार लगाएंगे। इसी तरह, ब्लू कालर बैण्ड विद सिल्वर लाइनिंग (पुलिस उप महानिरीक्षक के समान) पी कैप,पी कैप में नीली पट्टी पर सफेद जरी एम्ब्रायडरी वाला उप्र होमगार्ड लिखा राज्य सरकार के मोनोग्राम वाला ताज तथा नीली बैरेट कैप पर सफेद जरी एम्ब्रायडरी वाला उप्र होमगार्ड लिखा राज्य सरकार के मोनोग्राम वाला ताज, बांए बाजू पर लाल-काला रंग पर उप्र सरकार का पीली जरी का राज्य चिन्ह का मोनोग्राम लगाएंगे। ऊपर के हिस्से में आधा लाल रंग तथा नीचे के हिस्से में आधा काला सोल्डर बैचे सफेद धातु का स्टार, वाहन के बोनट पर लाल-काले रंग में राज्य सरकार के मोनोग्राम सहित झंडा जिसका आकार पुलिस उप महानिरीक्षक के वाहन पर लगाए जाने वाले झंडे के समान होगा।

वरिष्ठ स्टाफ अधिकारी,मंडलीय कमांडेंट तथा उनके समकक्ष पदधारक अधिकारी जो दो वर्ष तक की सेवा पर हैं वे अशोक काउन लगाएंगे। पी कैप में उप्र होमगार्ड लिखा राज्य सरकार के मोनोग्राम वाला सफेद ताज सफेद धातु का लगा सकेंगे। वे नेेवी ब्लू बैरेट कैप जिसमें उप्र होमगार्ड लिखा राज्य सरकार के मोनोग्राम वाला ताज सफेद धातु का, दो वर्ष से अधिक व पांच वर्ष से कम की सेवा पर अशोक काउन एवं एक पांच कोने का सफेद धातु का स्टार लगाएंगे। पी कैप में उप्र होमगार्ड लिखा राज्य सरकार के मोनोग्राम वाला ताज सफेद धातु का लगाएंगे। वे नेवी ब्लू बैरेट कैप लगाएंगे। इसी तरह, पांच वर्ष की सेवा के बाद अशोक काउन एवं दो पांच कोने का सफेद धातु का स्टार लगाएंगे। नेवी ब्लू कालर बैण्ड विद सिल्वर लाइनिंग,पी कै प में नीली पट्टी पर सफेद जरी एम्बायडरी वाला उप्र होमगार्ड लिखा राज्य सरकार के मोनोग्राम वाला ताज तथा बैरेट कैप पर सफेद एम्ब्रायडरी वाला उप्र होमगार्ड लिखा राज्य सरकार के मोनोग्रामवाला ताज लगाएंगे। नेवी ब्लू बैरेट कैप में नीली पट्टी पर सफेद जरी एक्ब्रायडरी वाला उप्र होमगार्ड लिखा राज्य सरकार के मोनोग्राम वाला ताज तथा बैरेट कैप पर सफेद एम्ब्रायडरी वाला उप्र होमगार्ड लिखा राज्य सरकार के मोनोग्राम वाला ताज,बांए बाजू पर लाल-काला रंग पर उप्र सरकार का पीली जरी का राज्य सरकार के चिन्ह का मोनोग्राम , ऊपर के हिस्से में आधा लाल रंग तथा नीचे के हिस्से में आधा काला रंग एवं सोल्डर बैच सफेद धातु का यूपी एच एस लिखा हो, लगाएंगे।

कनिष्ठ स्टाफ अधिकारी,जिला कमांडेंट,मंडलीय प्रशिक्षण केन्द्र एवं उनके समकक्ष पद धारक जो दो वर्ष से कम की सेवा किए होंगे,एक पांच कोने का सफेद धातु का स्टार लगाएंगे। इनके पी कैप में उप्र होमगार्ड लिखा राज्य सरकार का मोनोग्राम वाला ताज सफेद धातु का,नेवी ब्लू बैरेट कैप में उप्र होमगार्ड लिखा राज्य सरकार का मोनोग्राम वाला ताज सफेद धातु का, बांए बाजू पर लाल-काले रंग पर उप्र सरकार का पीली जरी काराज्य चिन्ह का मोनोग्राम, ऊपर के हिस्से में आधा लाल रंग तथा नीचे के हिस्से में आधा काला होगा।

दो वर्ष से पांच वर्ष तक की सेवा पर दो पांच कोने के सफेद धातु के स्टार,पी कैप, नेवी ब्लू बैरेट कैप में उप्र होमगार्ड लिखा राज्य सरकार के मोनोग्राम वाला ताज सफेद धातु काा,बांए बाजू पर लाल-काला रंग पर उप्र सरकार का पीली जरी का राज्य चिन्ह का मोनोग्राम ,ऊपर के हिस्से में आधा लाल रंग तथा नीचे के हिस्से में आधा काला लगेगा। पांच वर्ष से अधिक की सेवा करने वाले अफसर तीन पंाच कोने के सफेद धातु के स्टार,पी कै प में उप्र होमगार्ड लिखा राज्य सरकार के मोनोग्राम वाला सफेद धातु का,नेवी ब्लू बैरेट कैप में उप्र होमगार्ड लिखा राज्य सरकार के मोनोग्राम वाला ताज सफेद धातु का पहनेंगे।होमगार्ड विभाग में नवसृजित विभागीय आईजी पद के लिए इस शासनादेश में वर्दी एवं बैज निर्धारण के बारे में कुछ भी उल्लेख नहीं किया गया है।

इस बाबत जब होमगार्ड विभाग के डीजी डॉ. सूर्य कुमार शुक्ला से बात की गई तो उन्होंने बताया कि इस बात की जानकारी मुझे नहीं थी। अब बात मेरे संज्ञान में आया है तो मैं इसे शासन को लिखकर अवगत कराऊंगा।

Post Author: thesundayviews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *