बंगला बचाने के लिए येागी से मिले मुलायम लेकिन योगी नहीं हुए ‘मुलायम’

लखनऊ

समाजवादी पार्टी के संरक्षक और पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव सरकारी बंगला छोड़ने के बाद लखनऊ के गोमती नगर में अपना नया ठिकाना बना सकते हैं। उनकी पार्टी के एक सांसद इस समय नए घर की तलाश में जुटे हैं। फिलहाल गोमती नगर के विपुल खंड में लगभग 10 हजार वर्ग फीट के क्षेत्रफल में बना एक घर उनके लिए पसंद किया गया है। पूर्व मुख्यमंत्रियों को पूरे जीवन काल के लिए आवंटित सरकारी बंगला खाली कराने के सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुपालन में राज्य सम्पत्ति विभाग की नोटिस मिलने के बाद सपा के नेता सक्रिय हो गए हैं।

इस नोटिस में 15 दिनों के अंदर सरकार बंगला खाली करने को कहा गया है। पूर्व मुख्यमंत्री होने के कारण सपा के दो दिग्गज नेताओं संरक्षक मुलायम सिंह यादव और अध्यक्ष अखिलेश यादव को अपना सरकारी बंगला खाली करना है। दोनों पूर्व मुख्यमंत्रियों का बंगला लखनऊ में विक्रमादित्य मार्ग पर अगल-बगल ही था। इसी मार्ग पर सपा का कार्यालय भी है। दोनों आवासीय बंगले खाली हो जाने के बाद इस मार्ग पर अब केवल पार्टी कार्यालय ही रह जाएगा।

राज्य सम्पत्ति विभाग ने भाजपा के शासनकाल में मुख्यमंत्री रहे कल्याण सिंह और राजनाथ सिंह, कांग्रेस के शासनकाल में मुख्यमंत्री रहे नारायण दत्त तिवारी और बसपा सुप्रीमो एवं पूर्व मुख्यमंत्री मायावती को भी सरकारी बंगला खाली करने का नोटिस दिया है। पूर्व मुख्यमंत्री एवं देश के मौजूदा मुख्यमंत्री राजनाथ सिंह ने तो सरकारी बंगला खाली करने का ऐलान भी कर दिया है। वह गोमती नगर स्थित अपने निजी घर में शिफ्ट होने जा रहे हैं।

उधर सपा के सूत्रों का कहना है कि पार्टी के एक सांसद ने पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव के लिए गोमतीनगर के विपुल खंड स्थित सृजन विहार में एक घर खरीदने की तैयारी कर ली है। यह घर लखनऊ के बाहर रहने वाले एक व्यापारी का है। सपा सांसद उससे यह घर मुलायम सिंह यादव को बेचने का अनुरोध कर रहे हैं। इससे पहले मुलायम सिंह यादव अपना बंगला बचाने का एक फॉमूला लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलने गए थे।

 

उन्होंने अनुरोध किया था कि उनका बंगला विधान परिषद में नेता प्रतिपक्ष अहमद हसन को आवंटित कर दिया जाए। वह यह भी चाहते हैं कि पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का सरकारी बंगला विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता राम गोविन्द चौधरी को आवंटित कर दिया जाए। फिलहाल प्रदेश सरकार की ओर से कोई सकारात्मक संकेत न मिलने पर सपा ने अपने दोनों नेताओं के लिए नए आवास की तलाश तेज कर दी है।

Post Author: thesundayviews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *