पढ़ाई की धरती पर, डिग्री मिली अंतरिक्ष में

एजेंसी, वाशिंगटन

नासा के अंतरिक्ष यात्री एंड्रयू जे ड्रयू फ्यूस्टेल ने पढ़ाई धरती पर की, मगर उन्हें डिग्री अंतरिक्ष में चक्कर लगाते हुए मिली। वहीं से वह यूनिवर्सिटी के कनवोकेशन समारोह में भी शामिल हुए। यह पढ़कर अगर आपका दिमाग चकराने लगा है तो, जरा ठहरिए। दरअसल, एंड्रयू नासा के अंतरिक्षयात्री हैं और उन्हें पर्ड्यू यूनिवर्सिटी ने 11 मई को प्रदान की खास बात यह है कि जिस दिन यूनिवर्सिटी का कनवोकेशन था, उस दिन वह अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन (आईएसएस) में धरती से 250 मील की ऊंचाई पर चक्कर लगा रहे थे। एंड्रयू हर घंटे धरती का चक्कर लगाते हुए 17,150 मील की यात्रा तय करते हैं। वह इस समय तीसरे मिशन पर आईएसएस में हैं।

आईएसएस पर लगे कैमरे की मदद से एंड्रयू यूनिवर्सिटी के कनवोकेशन प्रोग्राम में भी शामिल हुए और इसके लिए उन्होंने अपने काम से कुछ देर का ब्रेक भी दिया गया। इस खास कार्यक्रम के दौरान एंड्रयू ने छात्रों को बताया कि इंडियाना स्थित यह संस्थान आठ और नौ के दशक में, जब वह छात्र थे तो उनके लिए बहुत मायने रखता था। पेनसिलवेनिया के लैंकास्टर के 52 वर्षीय अंतरिक्षयात्री ने इस दौरान छात्रों को प्रेरक संदेश दिया।

उन्होंने कहा कि मैं चाहता हूं कि आप भी पर्ड्यू यूनिवर्सिटी को उसी तरह देखिये जैसे यह मुझे दिखती है। यहां की मीठी यादों में अच्छे और चुनौती भरे समय के किस्से हों। आपने इस मंच पर अपनी मौजूदगी दर्ज कराने का मौका खुद हासिल किया है। मैं चाहूंगा कि आप सभी को मेरी तरह सितारों के बीच उड़ने का मौका मिले।

आईएसएस के एक अन्य अंतरिक्षयात्री और पर्ड्यू यूनिवर्सिटी के पूर्व छात्र स्कॉट टिंगल ने एंड्रयू को डिग्री प्रदान की। एंड्रयू 80 दिन अंतरिक्ष में बिता चुके हैं और उनके खाते में 7 स्पेसवॉक हैं, जो 48 घंटे 28 मिनट की कुल है। बुधवार को वह अपनी 8वीं स्पेसवॉक करेंगे और अक्तूबर तक धरती पर वापस लौटेंगे।

Post Author: thesundayviews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *