डीआईजी ने सभी कमांडेंट को जारी किया फरमान: मंत्री के भतीजी की शादी हर हाल में आना है

होमगार्ड मंत्री अनिल राजभर के भतीजी की शादी का ठेका लेकर बेहाल हैं  डीआईजी 

चर्चा-ए-खास : सूबे के 80 कमांडेंट,18 मंडलीय कमांडेंट आएंगे तो… समझ रहे हैं ना…

चर्चा-ए-खास: शादी की आड़ में डीआईजी मंत्री की नजर में नंबर बढ़ाने की जुगत में

संजय पुरबिया

लखनऊ।

उत्तर प्रदेश सरकार के एक मंत्री की भतीजी की शादी की तैयारियां जोर-शोर से चल रही है। नाते-रिश्तेदारों को तो मानों सांस लेने की फुर्सत नहीं है। भव्यता में किसी तरह की कोई कमी ना रहे इसके लिये गांव-जवार के लोग भी दिन-रात एक किये हुए हैं। होना भी चाहिए,आखिर मंत्री जी के भतीजी का शादी है। लेकिन, जिस विभाग के वो मंत्री हैं,वहां के कुछ अफसरों ने अभी से ही प्रदेश के सभी अफसरों को टेलीफोनिक न्यौता बांट रहे हैं। न्यौता देना अच्छी बात है लेकिन धमका कर … ये ठीक बात नहीं है। अब अफसरों की बात तो मुझे सुनना और मानना पड़ेगा,जब सुनेंगे तो लिखना भी पड़ेगा,जो मेरा पेशा है। यानि खबरची…। अफसरों के बीच जो चकल्लस चल रही है वो ये है कि मुख्यालय पर बैठे डीआईजी साहेब को तो मानों कोई काम ही नहीं नजर आ रहा है। जब मन हो रहा है फोनिया देते हैं और कहते हैं कि आपलोगों को 4 मई को हर हाल में चंदौली वाराणसी आना है,समझ लो… काम धाम छोडक़र आपलोग उस दिन वहां मौजूद रहेंगे…। अफसर ये भी कह रहे हैं कि डीआईजी साहेब चमचागिरी का हद पार कर गये हैं। अईसा लग रहा है मानों उन्होंने शादी का पूरा ठेका ले रखा हो…।

 

अब भईया हम का कहीं,अब आपलोग समझ गये होगे कि डीआईजी साहेब काहें इतना धौंस दे रहे हैं…। वैसे हम बता दें कि इससे पूर्व भी सपा सरकार में होमगार्ड मंत्री की बिटिया की शादी थी जिसमें सचिवालय से सभी कमांडेंट को शादी में शरीक होने की दावत दी गई लेकिन पूर्व डीजी ने उनसे ज्ञान की बातें की,फिर क्या मंत्री जी सभी को शादी में आने के लिये मना कर दिया। होमगार्ड मंत्री अनिल राजभर की भतीजी की 4 मई को चंदौली,वाराणसी के गेस्ट हाउस से वैवाहिक कार्यक्रम सम्पन्न होना है। होमगार्ड मुख्यालय पर तैनात डीआईजी सूबे के 80 कमांडेंट एवं 18 मंडलीय कमांडेंट को फोन कर शादी में आने का टेलीफोनिक न्यौता दे रहे हैं। बापू भवन से भी सभी को फोनियाया जा रहा है। अफसरों ने बताया कि डीआईजी साहेब के बोलने का अंदाज धमकी भरा लग रहा है। उनका कहना है कि आपलोगों को हर हाल में शादी में आना है। ऐसा लग रहा है मानों डीआईजी एस के सिंह भतीजी की शादी का ठेका ले रखे हों…। इस बात का कई मतलब निकलता है। मैं कहूंगा तो बुरा लगेगा,आपलोग स्वयं समझदार हैं कि अफसरों के कहने का क्या मतलब निकल रहा है…। शायद,ये बात मंत्री अनिल राजभर को मालूम ना हो।

 

खैर,चर्चा इस बात की है कि मंत्रीजी के भतीजी की शादी में जिस तरह से अफसरों पर दबाव बनाया जा रहा है,यदि इतना ही दबाव डीआईजी साहेब विभाग के आगे बढ़ाने के लिये करते तो होमगार्डों का भी भला हो जाता। थोड़ा पीछे चलते हैं। सपा सरकार में ब्रम्हाशंकर त्रिपाठी होमगार्ड मंत्री थें। गत वर्ष उनकी बेटी की शादी भी होमगार्ड मुख्यालय जेल रोड से हुई। शादी से पूर्व प्रदेश के सभी कमांडेंट को शादी में आने का न्यौता दिया गया। उस दौरान तैनात डीजी ने उन्हें ज्ञान दिया, सर सभी अफसरों को बुला लेंगे तो एक तो काम प्रभावित होगा, दूसरा विभाग सहित सत्ता के गलियारों में चर्चा हो जाएगी कि अफसरों ने मंत्री जी की बेटी का पूरा खर्चा उठा रखा है। ये बात मंत्री जी की समझ में आ गई और उन्होंने तत्काल डीजी को निर्देश दिया कि किसी अफसर को शादी में नहीं बुलाया जाए। मंत्री जी की प्रतिष्ठïा बच गई और विरोधियों को बोलने का मौका भी नहीं मिला। खैर,सभी कमांडेंट 4 मई को जाने की तैयारी में जुट गए हैं और आपस में बतिया रहे हैं कि भईया तुम का दे रहे हो…

 

Post Author: Sanjay Srivastava

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *