प्रधानमंत्री जिद्दी हैं तो मैं उनसे ज्यादा जिद्दी हूं: स्वाति मालीवाल

प्रधानमंत्री एक साल की पीड़िता से मिलें
नई दिल्ली

बच्चों से रेप मामले में कड़े कानून की मांग को लेकर दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल सात दिनों से राजघाट पर आमरण अनशन कर रही हैं। लगातार गिरती सेहत के बावजूद वह गुरुवार को मांगों पर अड़ी रहीं। उन्होंने कहा कि जबतक पीएम मांग नहीं मानेंगे अनशन नहीं तोड़ूंगी। अगर प्रधानमंत्री जिद्दी हैं तो मैं उनसे ज्यादा जिद्दी हूं।

स्वाति मालीवाल ने सातवां दिन भी रोज की तरह राजघाट पर बापू की समाधि पर जाकर शुरू किया। वह यहां व्हीलचेयर पर बैठकर पहुंचीं। इस दौरान उन्होंने अपने हाथ में एक तख्ती पकड़ रखी थी, जिस पर लिखा था कि यह केवल मेरी ऊर्जा बचाने के लिए है। मैं अभी भी पांच किमी दौड़ सकती हूं। अनशन में उन्हें लगातार महिलाओं, कॉलेज की छात्राओं, राजनीति जगत से जुड़े लोग और तमाम संगठनों का सहयोग मिल रहा है।

गुरुवार को सीपीआई नेता डी. राजा भी समता स्थल पहुंचे। उन्होंने मालीवाल को भरोसा दिलाया कि वह मुद्दे को मानसून सत्र में संसद में उठाएंगे। दोपहर में नोएडा के एक स्कूल की छात्राएं भी उनका समर्थन करने पहुंची।शाम को स्वाति ने प्रधानमंत्री द्वारा लंदन में दिए गए बयान पर सवाल उठाए। उन्होंने प्रधानमंत्री से पूछा कि वह यह बताएं कि राजनीति कौन कर रहा है? यह दुख की बात है कि जब पूरा देश इन घटनाओं पर गुस्से में उबल रहा है। देश की महिलाएं असुरक्षित महसूस कर रही हैं। आज देश अपने प्रधानमंत्री से कार्यवाही चाहता है।

स्वाति ने प्रधानमंत्री से अनुरोध किया कि वह एक साल की दुष्कर्म पीड़ित बच्ची से मिलें। स्वाति ने कहा कि मुझे उम्मीद है कि प्रधानमंत्री इतने निष्ठुर नहीं हैं कि वह ऐसी बच्ची से मिलने के बाद भी नहीं पिघलेंगे। उन्होंने आगे कहा कि मैं भी उनकी बेटी हूं, अगर वह जिद्दी हैं तो मैं भी कम नहीं हूं। मैं मांगें माने जाने तक अनशन पर रहूंगी, चाहे मुझे कोई भी बलिदान देना पड़े।

Post Author: Sanjay Srivastava

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *